क़ुर्ब




मेरे महबूब! 
तुम्हारा क़ुर्ब
क़ुर्बे-इलाही है
तुम्हारे साये में
मेरी बेचैन रूह सुकून पाती है... 
-फ़िरदौस ख़ान

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

0 Response to "क़ुर्ब"

टिप्पणी पोस्ट करें