शबे-ज़र्री


मेरे महबूब! 
शबे-ज़र्री मुबारक हो... 
मुहब्बत से सराबोर हर लम्हा मुबारक हो... 
मां की दुआओं के साये में गुज़रा वक़्त मुबारक हो... 
ख़ुदा करे, हम हमेशा यूं ही साथ रहें... आमीन
-फ़िरदौस ख़ान 
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

0 Response to "शबे-ज़र्री"

टिप्पणी पोस्ट करें