रौशनी


मेरे महबूब! 
गहरे स्याह अंधेरे में
जगमगाती रौशनी हो तुम... 
-फ़िरदौस ख़ान
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

0 Response to " रौशनी"

टिप्पणी पोस्ट करें