कलमा...


मेरे मौला !
पहले ज़ुबां पर
कलमे की  तरह
उसका नाम रहता था...
मगर
अब शामो-सहर ज़ुबां पर
सिर्फ़ और सिर्फ़
कलमा ही रहता है.…
वो इश्क़े-मजाज़ी था
और
ये इश्क़े-हक़ीक़ी है…
-फ़िरदौस ख़ान 
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS