बेला के गजरे...


मेरे महबूब
तुमने कहा था
मेरे खुले बालों में लगे
बेला के गजरे
तुम्हें बहुत अच्छे लगते हैं
क्यूंकि
इन्हीं घनी ज़ुल्फ़ों के साये में
तुम्हारी रातें महकती हैं...
-फ़िरदौस ख़ान
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

0 Response to "बेला के गजरे..."

एक टिप्पणी भेजें