विंड चाइम्स...


विंड चाइम्स... कितना भला लगता है हवा से हिलती विंड चाइम्स का मधुर संगीत... कितने बरसों से ये विंड चाइम्स अपनी मधुर संगीत से दिल लुभा रही हैं... ये हमें बसंत के मौसम की याद दिला देती हैं, क्योंकि इन्हें बसंत के मौसम में ही लगाया था... और तभी से ये हमारे घर की सबसे प्यारी चीज़ों में शुमार हो गईं...

विंड चाइम्स यानी छोटे-बड़े आकार की घंटियों का समूह... इन घंटियों को इस तरह समायोजित किया जाता है कि ये हवा के झोंके से बजने लगती हैं... घंटियों के बजने से मधुर संगीत निकलता है, जो बेहद कर्णप्रिय लगता है... मन कितना ही उदास हो, इनका मधुर संगीत सारी उदासी दूर भगा देता है... इनके संगीत से माहौल ख़ुशनुमा हो जाता है...

हिंदुस्तान में लाफ़िंग बुद्धा के बाद विंड चाइम्स सर्वाधिक लोकप्रिय हैं... यह बौद्ध संस्कृति की देन है, जो चीन और जापान होते हुए आज पूरी दुनिया में मशहूर हो गईं... फ़ेंगशुई के मुताबिक़ विंड चाइम्स घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करती हैं... बाज़ार में छोटे-बड़े सभी आकार में विंड चाइम्स मिल जाती हैं... ये मेटल, क्रिस्‍टल, बांस, लकड़ी और फ़ाइबर की भी होती हैं... हमें मेटल की विंड चाइम्स ही सबसे ज़्यादा भाती हैं...
(ज़िंदगी की किताब का एक वर्क़...)
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

हरे बॊर्डर वाली पीली साड़ी...


साड़ी... रंग-बिरंगी साड़ियां किसी का भी मन मोह लेती हैं... हमें साड़ी बहुत पसंद है... ख़ासकर बॊर्डर वाली साड़ियां... किसी भी ख़ास मौक़े पर हम साड़ी ही बांधते हैं... दफ़्तर में जींस-शर्ट या जींस कुर्ता ही हमें ठीक लगता है... सफ़र के दौरान भी जींस-शर्ट से बेहतर कोई पहनावा नहीं... घर में तो सलवार-कमीज़ या लॊंग स्कर्ट कुछ भी पहन लो...

जब दूरदर्शन में पहला कार्यक्रम था, तो हमसे कहा गया कि हमें बॊर्डर वाली साड़ी पहननी है... कहने को तो हमारे पास बहुत-सी साड़ियां थीं, जो पापा मम्मा के लिए लाते थे... सभी ज़री वाली साड़ियां थीं... जैसी बॊर्डर वाली सादी साड़ी हमें चाहिए थी, वह हमारे पास नहीं थी... शाम भी काफ़ी हो चुकी थी... बाज़ार से साड़ी ले भी आते, लेकिन ब्लाऊज़ का क्या करें... यही दिक़्क़त पेश आ रही थी... हमने पड़ौस की आंटी से बात की कि क्या वह सुबह 11 बजे तक हमें ब्लाऊज़ सील कर दे सकती हैं... उन्होंने इतने जल्दी ब्लाऊज़ सील कर देने से मना कर दिया... अच्छी बात यह रही कि उन्होंने हमारी परेशानी हल कर दी... उन्होंने हमें अपनी नई हरे बॊर्डर वाली पीली साड़ी दी... और ब्लाऊज़ की दोनों तरफ़ कच्ची सिलाई करके उसे हमारे नाप का बना दिया... हम बहुत ख़ुश थे...

हमने हरे बॊर्डर वाली पीली साड़ी पहनकर कार्यक्रम किया... कार्यक्रम बहुत अच्छा रहा... उसके बाद तो हमने बॊर्डर वाली कई साड़ियां ख़रीदीं... आज हमारे पास इतनी साड़ियां हैं कि हमें उनकी गिनती तक याद नहीं... बाज़ार में कुछ भी लेने जाएं, कोई साड़ी पसंद आ जाए, तो ख़रीद ही लेते हैं... लेकिन हरे बॊर्डर वाली पीली साड़ी को हमें कभी नहीं भूल सकते... वह तो हमारी यादों में बस चुकी है... हमें बसंत पंचमी के लिए एक साड़ी ख़रीदनी है... सोच रहे हैं कि हरे बॊर्डर वाली पीले रंग की साड़ी ही लें...
(ज़िंदगी की किताब का एक वर्क़...)
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

ज़िंदादिली की मिसाल स्टी़फन हॉकिंग


फ़िरदौस ख़ान
इंसान चाहे तो क्या नहीं कर सकता. अपनी हिम्मत और लगन के बूते वह नामुमकिन को भी मुमकिन बना सकता है. इसकी एक बेहतरीन मिसाल है स्टी़फन हॉकिंग, जिन्होंने असाध्य बीमारी के बावजूद कामयाबी के आसमान को छुआ. तक़रीबन 22 साल की उम्र में उन्हें एमियो ट्रोफिक लेटरल स्केलरोसिस नामक बीमारी हो गई थी. यह ऐसी बीमारी है, जो कभी ठीक नहीं होती. इसकी वजह से व्यक्ति का पूरा जिस्म अपंग हो जाता है, स़िर्फ दिमाग़ ही काम करने योग्य रहता है. स्टी़फन ने एक बार कहा था कि मैं भाग्यशाली हूं कि मेरा केवल शरीर बीमार हुआ है. मेरे मन और दिमाग़ तक रोग पहुंच नहीं पाया. हिंद पॉकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित स्टी़फन हॉकिंग एक महान वैज्ञानिक नामक किताब एक महान वैज्ञानिक से रूबरू कराती है. स्टी़फन हॉकिंग न्यूटन और आइंस्टीन के समकक्ष ख़डे हैं. कॉस्मोलोजिस्ट, मैथेमेटिशियन, कैंब्रिज में ल्यूकेशियन प्रोफेसर, अंतरिक्ष और ब्लैक होल से पर्दा उठाने वाले, आकाश में काले गड्ढे ढूंढने वाले, अंतरिक्ष के अस्तित्व पर सवालिया निशान लगाने वाले स्टी़फन हॉकिंग ने 12 मानद उपाधियां हासिल कीं और अनेक पुरस्कारों से उन्हें नवाज़ा जा चुका है. उनकी किताब ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम ने ब्रिकी के रिकॉर्ड क़ायम किए. उन्होंने ज़ीरो ग्रेटीविटी फ्लाइट से अंतरिक्ष की यात्रा की.

यह किताब स्टी़फन हॉकिंग की ज़िंदगी के विभिन्न पहुलुओं पर रौशनी डालती है. इसमें उनकी निजी ज़िदगी के अलावा उनके कार्यों का भी लेखा-जोखा है. स्टीफन हॉकिंग ने एक आम व्यक्ति की तरह ही ज़िंदगी को जिया. यहां रिश्तों में मिठास भी है तो कहीं-कहीं क़डवाहट भी देखने को मिलती है, वजह चाहे जो भी रही हो. कहा जाता है कि कामयाबी पाना एक बात है और उसे पचा ले जाना दूसरी बात है. लगता है स्टी़फन के संबंध में भी यही हुआ. शायद वह अपनी कामयाबी को हज़म नहीं कर पाए. कहते हैं कि सफलता के घमंड में आगे चलकर उनका अनुसंधान कार्य कमज़ोर प़डने लगा. उनकी हिम्मत और धैर्य हठ में बदलने लगे. हालांकि वह सामान्य जीवन व्यतीत कर रहे थे, लेकिन उनकी अपेक्षाएं ब़ढने लगीं. जीवन के विभिन्न पहलू उन्हें प्रभावित करने लगे. अपनी इच्छाओं को पूरा करने में ही उनका अधिकांश समय बीतने लगा. किसी की बात अस्वीकार करना उन्हें कठिन लगने लगा. सभी का निमंत्रण स्वीकार करके हर जगह जाने लगे. विदेश यात्राएं, अलंकार, मेडल, सम्मान, प्रशंसा आदि सब एकत्र होकर स्टी़फन को अपनी पत्नी और बच्चों से दूर ले जाने लगे. उनके साथ जेन का विदेश जाना भी कम हो गया. इस कार्य को उनकी नर्सें करने लगीं. स्टी़फन के जीवन में जेन की सहभागिता कम होने लगी. अपने बीमार पति को साहस देने, ढांढस बंधाने और प्रेरित करने का काम लगभग समाप्त हो गया. अब एक ही काम बचा था. उन्हें हर समय यह बताना कि तुम परमात्मा नहीं हो और न बन सकते हो. 1990 तक उनका वैवाहिक जीवन सामान्य चल रहा था. विवाह को 25 वर्ष पूरे हो रहे थे. अत: उन्होंने इसे एक महोत्सव के रूप में मनाने का निर्णय लिया, लेकिन दूसरी ओर अलग ही खिच़डी पक रही थी. स्टी़फन का रोमांस अपनी नर्स इलाइन के साथ ब़ढ रहा था. यद्यपि जेन इस संबंध को उसी प्रकार स्वीकार करने को तैयार थीं जिस प्रकार स्टी़फन ने जेन और जोनाथन के संबंधों को स्वीकार किया था कि इस प्रकार का संबंध गुप्त रहेगा. परिवार और बच्चों को कोई नुक़सान नहीं पहुंचाएगा, लेकिन शायद अब पानी सिर के ऊपर से गुज़र रहा था. अक्टूबर 1989 में लूसी फ्रेंच और स्पेनिश प़ढने के लिए ऑक्सफोर्ड चली गई. रॉबर्ट अपनी परास्नातक की प़ढाई के लिए ग्लासगो चले गए. अवसर पाकर स्टी़फन ने जेन को अपने अलग होने और इलाइन के साथ रहने की चिट्ठी थमा दी. दोनों आकस्मिक रूप से अलग हो गए, लेकिन दोनों में से किसी ने भी इस संबंध विच्छेद की सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं की और न संबंध विच्छेद का कोई कारण ही बताया. हालांकि स्टी़फन ने अपने आपको बहुत भाग्यशाली माना है. उन्होंने अपनी पुस्तक ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम की भूमिका में स्वीकार किया है कि उनकी पत्नी जेन और बच्चों रॉबर्ट, लूसी एवं टिम की सहायता, सहयोग एवं प्रेरणा के बलबूते ही मैंने अपना साधारण जीवन जिया और इतना ऊंचा करियर बनाया. उन सबके सहयोग के बिना यह सब संभव नहीं था.

स्टी़फन की ख्याति दिनोदिन ब़ढ रही थी. बसंत 1989 की बात है जब एक फिल्म निर्माता गोरडन फ्रीडमेन ने स्टी़फन के सामने उनकी किताब ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम पर फिल्म बनाने का प्रस्ताव रखा. स्टी़फन तैयार हो गए, लेकिन उन्होंने इच्छा व्यक्त की कि उनकी फिल्म भी उनकी किताब की तरह ही होनी चाहिए, यानी ़िफल्म विज्ञान पर हो, वैज्ञानिक पर नहीं. आखिरकार फिल्म की शूटिंग शुरू हुई तो स्टी़फन ने महसूस किया कि कई साक्षात्कार कार्यक्रम और दृश्य, परिवार और दोस्तों के साथ फिल्माए जा चुके हैं, लेकिन यह बायोग्राफी तो आधी ही है. यानी उनकी पत्नी का इसमें कोई योगदान नहीं है. जेन से संपर्क किया गया और उनसे फिल्म में शामिल होने का अनुरोध किया गया, लेकिन जेन ने इस प्रस्ताव को सिरे से नकार दिया. शायद वह नहीं चाहती थीं कि उनकी व्यक्तिगत जीवन कैमरे के सामने आए. इस संबंध में स्टी़फन ने भी खामोशी अख्तियार कर ली. अकादमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट एंड साइन्स में 14 अगस्त, 1994 को इस फिल्म का प्रीमियर शो किया गया. फिल्म कामयाबी रही. इसके बाद स्टी़फन और इलाइन मेसन ने 16 सितंबर, 1995 को शादी कर ली. इस शादी में जेन और स्टीफन के बच्चे शामिल नहीं हुए.

असाध्य बीमारी के बावजूद स्टी़फन ने कभी हार नहीं मानी. एक साक्षात्कार में अपनी बीमारी के बारे में उन्होंने कहा था, मैं अपनी बीमारी के प्रति कृतज्ञ हूं, जिसके कारण मैं अपना पूरा ध्यान शोध कार्य में लगा सका और समय खाऊ कार्यों से बच सका. अगर मैं शारीरिक रूप से स्वस्थ होता तो शायद इतना न कर पाता. मैं अपनी इस बीमारी के कारण ही थ्योरिटिकल फिजिक्स में काम कर सका, क्योंकि इस काम में मेरी यह गंभीर बीमारी कभी बाधा नहीं बनी. इसका मुझे संतोष है. उन्होंने कॉस्मोलॉजी विषय को अपना शोध विषय बनाया और ब्रह्मांड की खोज में लग गए. अभी तक ब्रह्मांड के ओर-छोर का पता नहीं लग पाया है. उन्होंने अपने साथी कीप और पर्सकिल के साथ मिलकर ब्लैक होल्स पर भी का़फी काम किया है. उन्होंने बताया कि ब्लैक होल में जो कुछ भी जाएगा, स्वाहा हो जाएगा.

फिलहाल अपनी दूसरी पत्नी इलाइन से तलाक़ के बाद वह अकेले जीवन गुज़ार रहे हैं. 8 जनवरी, 2012 को उनका 70वां जन्मदिन मनाया गया. लोगों का कहना है कि एमियो ट्रोफिक लेटरल स्केलरोसिस जैसी बीमारी के बाद किसी को 50 वर्ष तक जीवित रहते नहीं देखा गया. वह विकलांगों के लिए भी काम करते हैं. उन्होंने विकलांगों के लिए उपलब्ध तकनीक का प्रसार किया. इसके लिए उन्हें प्राइड मोबिलिटी की तऱफ से क्वान्टम जेजी 1400 नाम की व्हीलचेयर भी मिली, जिसकी तुलना उन्होंने फेरारी गा़डी से की. परमाणु शक्ति का इस्तेमाल मानव कल्याण के लिए करने के हिमायती स्टी़फन चाहते हैं कि विज्ञान परमाणु की इस शक्ति को ऊर्जा के स्रोत के रूप में विकसित करे. बहरहाल, स्टी़फन हॉकिंग की यह जीवनी जहां इस महान वैज्ञानिक से रूबरू कराती है, वहीं यह भी सबक़ देती है कि इंसान को कभी मायूस नहीं होना चाहिए. (स्टार न्यूज़ एजेंसी)
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

अपना घर...


बहुत कम ही ऐसी लड़कियां होती हैं, जिनका अपना घर होता है... जहां वे जन्म लेती हैं, वो उनके पिता का घर होता है... और शादी के बाद पति का घर... लेकिन इन दोनों ही घरों में उनका अपना कुछ नहीं होता... वे तो अपनी मर्ज़ी से अपने लिए एक कमरा भी नहीं चुन सकतीं... पिता के घर में यह हक़ भाइयों को ही मिलता है... वे अपनी मर्ज़ी से अपनी पसंद का कमरा चुनते हैं... दलील होती है कि उनकी बीवी आएगी, तो इसी कमरे में रहेगी... लड़की को तो एक न एक दिन ससुराल चले जाना ही है... फिर शादी के बाद उन्हें उसी कमरे में रहना होता है, जो उनके पति को मिला होता है... यहां भी उन्हें अपनी मर्ज़ी से कोई कमरा चुनने का हक़ नहीं मिलता...

लेकिन जो लड़कियां काम करती हैं... अपनी मेहनत के पैसों से एक घर ख़रीदती हैं, भले ही वह ज़्यादा बड़ा न हो... वही उनका अपना घर होता है... इस घर की एक-एक चीज़ पर उनका अपना हक़ होता है... वे दीवारों पर अपनी पसंद का रंग करा सकती हैं... दरवाज़ों और खिड़कियों पर अपनी मर्ज़ी के रं-बिरंगे पर्दे लगा सकती हैं... फ़र्श पर अपनी पसंद की चांदनी बिछा सकती हैं... मेज़ पर अपनी पसंद के फूल सजा सकती हैं... गमलों में अपनी पसंद से बेला, चमेली या गुलाब उगा सकती हैं... यानी अपनी मर्ज़ी से अपना घर सजा सकती हैं...
सच ! कितना प्यारा होता है अपना घर... काश ! हर लड़की को मिल सकता उसका अपना घर..
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

नये साल का तोहफ़ा...



भारतकोश की तरफ़ से हमारे लिए नये साल का बेहतरीन तोहफ़ा... हम भारतकोश के तहे-दिल से शुक्रगुज़ार हैं...

फ़िरदौस ख़ान को लफ़्ज़ों के जज़ीरे की शहज़ादी के नाम से जाना जाता है. वह पत्रकारशायरा और कहानीकार हैं. वह कई भाषाओं की जानकार हैं. उन्होंने दूरदर्शन केन्द्र और देश के प्रतिष्ठित समाचार-पत्रों में कई साल तक सेवाएं दीं. उन्होंने अनेक साप्ताहिक समाचार-पत्रों का संपादन भी किया. ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन केन्द्र से समय-समय पर उनके कार्यक्रमों का प्रसारण होता रहा है. उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो और न्यूज़ चैनलों के लिए भी काम किया है. वह देश-विदेश के विभिन्न समाचार-पत्रोंपत्रिकाओं और समाचार व फीचर्स एजेंसी के लिए लिखती रही हैं. उत्कृष्ट पत्रकारिताकुशल संपादन और लेखन के लिए उन्हें अनेक पुरस्कारों ने नवाज़ा जा चुका है. वह कवि सम्मेलनों और मुशायरों में भी वह शिरकत करती रही हैं. कई बरसों तक उन्होंने हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की तालीम भी ली. उर्दूपंजाबीअंग्रेज़ी और रशियन अदब (साहित्य) में उनकी ख़ास दिलचस्पी है. वह मासिक पैग़ामे-मादरे-वतन की भी संपादक रही हैं और मासिक वंचित जनता में संपादकीय सलाहकार हैं. वह स्टार न्यूज़ एजेंसी में संपादक हैं. 'स्टार न्यूज़ एजेंसीऔर 'स्टार वेब मीडियानाम से उनके दो न्यूज़ पॉर्टल भी हैं. 

वह रूहानियत में यक़ीन रखती हैं और सूफ़ी सिलसिले से जुड़ी हैं. उन्होंने सूफ़ी-संतों के जीवन दर्शन और पर आधारित एक किताब 'गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूतलिखी हैजिसे साल 2009 में प्रभात प्रकाशन समूह ने प्रकाशित किया था. वह अपने पिता स्वर्गीय सत्तार अहमद ख़ान और माता श्रीमती ख़ुशनूदी ख़ान को अपना आदर्श मानती हैं. हाल में उन्होंने राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम का पंजाबी अनुवाद किया है. क़ाबिले-ग़ौर है कि सबसे पहले फ़िरदौस ख़ान ने ही कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्री राहुल गांधी को ’शहज़ादा’ कहकर संबोधित किया था, तभी से राहुल गांधी के लिए ’शहज़ादा’ शब्द का इस्तेमाल हो रहा है. 

वह बलॉग भी लिखती हैं. उनके कई बलॉग हैं. फ़िरदौस डायरी और मेरी डायरी उनके हिंदी के बलॉग है. हीर पंजाबी का बलॉग है. जहांनुमा उर्दू का बलॉग है और द पैराडाइज़ अंग्रेज़ी का बलॉग है.   

उनकी शायरी किसी को भी अपना मुरीद बना लेने की तासीर रखती है. मगर जब वह हालात पर तब्सिरा करती हैं, तो उनकी क़लम तलवार से भी ज़्यादा तेज़ हो जाती है. जहां उनकी शायरी में इश्क़, समर्पण, रूहानियत और पाकीज़गी है, वहीं लेखों में ज्वलंत सवाल मिलते है, जो पाठक को सोचने पर मजबूर कर देते हैं. अपने बारे में वह कहती हैं- 
मेरे अल्फ़ाज़मेरे जज़्बात और मेरे ख़्यालात की तर्जुमानी करते हैंक्योंकि मेरे लफ़्ज़ ही मेरी पहचान हैं...फ़िरदौस ख़ान

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS