समन के साये...


मेरे महबूब !
इसी तपती हुई धूप में
चलकर
आ सकते हो,
तो आ जाओ,
क्योंकि
मेरे घर की राह में
समन के घने साये नहीं मिलते...
फ़िरदौस ख़ान

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

1 Response to "समन के साये..."

  1. sushma 'आहुति' says:
    9 अक्तूबर 2013 को 7:56 pm

    मन के भावो को शब्द दे दिए आपने......

एक टिप्पणी भेजें