शायद, यही ज़िन्दगी है...

ज़िन्दगी एक सहरा है...और ख़ुशियां सराब...इंसान ख़ुशियों को अपने दामन में समेट लेने के लिए क़दम जितने आगे बढ़ाता है...ख़ुशियां उतनी ही उससे दूर होती चली जाती हैं...शायद, यही ज़िन्दगी है...
-फ़िरदौस ख़ान
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

5 Response to "शायद, यही ज़िन्दगी है..."

  1. dr. ashok priyaranjan says:
    20 दिसंबर 2009 को 12:35 am

    कोमल भावों की प्रभावशाली अभिव्यक्ति। -
    http://drashokpriyaranjan.blogspot.com

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

  2. अजय कुमार झा says:
    20 दिसंबर 2009 को 12:36 am

    वाह बहुत सुंदर बात

  3. शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' says:
    20 दिसंबर 2009 को 1:32 am

    फिरदौस साहिबा,
    'इंसान जितना.....यही ज़िंदगी है
    ऐसा क्यूं सोचती हैं आप?
    जिगर साहब का एक शेर समाअत फरमायें-
    चला जाता हूं हंसता खेलता दौरे-हवादिस से
    अगर आसानियां हों, ज़िंदगी दुश्वार हो जाये...
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

  4. श्यामल सुमन says:
    20 दिसंबर 2009 को 8:05 am

    उलझन जीवन की सखा कभी न छूटे साथ।
    खुशियाँ मिलतीं हैं तभी मिले हाथ से हाथ।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

  5. निर्मला कपिला says:
    20 दिसंबर 2009 को 12:16 pm

    सही बात कही आपने शुभकामनायें

एक टिप्पणी भेजें