तुम्हारा नाम


मेरे महबूब
कुछ नाम ऐसे होते हैं 
जिनसे 
इश्क़ हो जाता है

जो 
कभी मेहंदी से
हथेली पर महकते हैं
तो कभी 
किसी सफ़ेद रुमाल के 
कोने पर मुस्कराते हैं

सच
कुछ नाम ऐसे होते हैं 
जिनसे 
इश्क़ हो जाता है
जैसे
तुम्हारा नाम...
-फ़िरदौस ख़ान

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

1 Response to "तुम्हारा नाम"

  1. Yashwant Yash says:
    3 दिसंबर 2013 को 10:28 am

    लाजवाब अभिव्यक्ति


    सादर

एक टिप्पणी भेजें