ज़िन्दगी अमावस की स्याह रात है

ज़िन्दगी
अमावस की
स्याह रात है
जिसमें
रौशन हैं
उम्मीदों के
हज़ारों दीये...

दुख और तकलीफ़ों का अंधेरा
कितना ही घना
क्यूं न हो...

एक न एक दिन
सुख और खुशियों
के उजाले को
ज़िन्दगी के आंगन में
छा ही जाना होता है
बिल्कुल
पहले पहर की
उजली धूप की तरह...
फ़िरदौस ख़ान
  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

14 Response to "ज़िन्दगी अमावस की स्याह रात है"

  1. मौसम says:
    27 अक्तूबर 2008 को 5:18 pm

    ज़िन्दगी अमावस की स्याह रात है
    जिसमें
    रौशन हैं
    उम्मीदों के
    हज़ारों दीये...


    सुब्हान अल्लाह...ज़िन्दगी ऐसी ही होती है...

  2. alex says:
    27 अक्तूबर 2008 को 5:41 pm

    जिसमें रौशन हैं उम्मीदों के हज़ारों दीये..
    क्या बात है
    बिल्कुल दुरुस्त फरमाया है आपने दरअसल ज़िन्दगी तो ऐसी ही है कि अगर दिन की खूबसूरत रौशनी है तो अमावस की रात भी है
    अगर इस गुलिस्तान में खार है तो हजारो गुल भी है बस ज़रूरत है तो अपना नज़रिया बदलने की. दरअसल वो ही इन्सान कामयाब होता है जो मुसीबत में भी हौसला बलाए रखता है और स्याह से स्याह रात में भी उसे उम्मीद होती है की कुछ लम्हों के बाद आफ़ताब रोशन होगा
    ज़रूर होगा.
    आपके इस नज़रिए और एक अरसे के बाद दीपावली के मुबारक मौके पर अच्छी नज़्म के लिए शुक्रिया और दीपावली की मुबारकबाद कि
    आपकी ज़िन्दगी में भी उजाला हो.

  3. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi says:
    27 अक्तूबर 2008 को 5:52 pm

    बहुत सुंदर रचना।

  4. वर्षा says:
    27 अक्तूबर 2008 को 6:29 pm

    ज़िंदगी की अच्छी फिलॉस्फी है, जिसमें उम्मीद कायम रहती है।

  5. डॉ.सुभाष भदौरिया. says:
    27 अक्तूबर 2008 को 6:48 pm

    फिरदौसजी आप उर्दू के साथ अच्छी हिन्दी की भी जानकार हैं दिनकर जी ने रशिमरथी खंड काव्य में कहा है-
    हार जीत क्या चीज वीरता की पहिचान समर है.
    सच्चाई पर कभी हारकर भी न हारता नर है.

    यदि विजय कहें तो विजय
    प्राप्त हो जाती परतापी को भी.
    सच है धन,दारा, जन
    मिल जाते हैं पापी को भी.
    उम्मीदों के हज़ारों दीये ही तो हमें ज़िन्दा रखते हैं.
    कविता के धरातल पर आपकी मासूमियत इंसानियत का पैगाम देती है जिसकी ताब के हम कायल हैं जो पत्थरों को पिघलाने का हुनर रखती है.
    अल्लाह ये तौफ़ीक आपको मुसल्सल अता करे. आमीन.

  6. शायदा says:
    27 अक्तूबर 2008 को 7:10 pm

    उम्‍मीद का दिया जलाए रखें।

  7. "Arsh" says:
    27 अक्तूबर 2008 को 7:33 pm

    आपकी नज़्म बहोत अच्छी लगी..बहोत बधाई इसकेलिए ..
    मेरे और मेरे पुरे परिवार के तरफ़ से आपको तथा आपके पुरे परिवार को दिवाली की बहोत बहोत शुभकामनाएं

    अर्श

  8. श्यामल सुमन says:
    27 अक्तूबर 2008 को 9:51 pm

    उम्मीदें तो बहुत है जिन्दगी में गर कोई समझे।
    नहीं तो जिन्दगी बस मौत के साये में पलती है।।

    दीपावली की शुभकामनाएँ।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

  9. विनय says:
    27 अक्तूबर 2008 को 10:14 pm

    बहुत ख़ूब!

  10. dr. ashok priyaranjan says:
    28 अक्तूबर 2008 को 1:39 am

    अच्छा िलखा है आपने ।

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

  11. Manoshi says:
    28 अक्तूबर 2008 को 3:19 am

    हाँ, ज़िंदगी दर असल बहुत खूब सूरत है, निर्भर करता है कि हमारा नज़रिया क्या है। हमारे पास १०० में से ८० चीज़ें हों और २० नहीं तो हमें किसे देखना चाहिये? ८० कि २०? आशा की किरण दिखी कविता में...अच्छा लगा पढ़ कर..

  12. HindiBlogs Net says:
    28 अक्तूबर 2008 को 3:54 am

    आपको दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें।
    अभी अपना व्यावसायिक हिन्दी ब्लॉग बनायें।

  13. अनिल कुमार वर्मा says:
    29 अक्तूबर 2008 को 1:44 pm

    फिरदौस जी, दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। मैनें अपने ब्लॉग पर सभी के लिए शुभकामना पोस्ट छोड़ी थी शायद आपकी नजर नहीं गई, अन्यथा मुझे भी दीपावली की बधाई ज़रूर मिलती। बहरहाल आपकी ये रचना जिन्दगी की सकारात्मकता का अच्छा उदाहरण पेश करती है।

    एक न एक दिन
    सुख और खुशियों
    के उजाले को
    ज़िन्दगी के आंगन में
    छा ही जाना होता है
    बिल्कुल
    पहले पहर की
    उजली धूप की तरह...

    बहुत खूबसूरत लाइनें हैं। बधाई।

  14. ज़ाकिर हुसैन says:
    30 अक्तूबर 2008 को 1:22 pm

    दुख और तकलीफ़ों का अंधेरा
    कितना ही
    घना क्यूं न हो...

    एक न एक दिन
    सुख और खुशियों
    के उजाले को
    ज़िन्दगी के आंगन में
    छा ही जाना होता है
    बिल्कुल
    पहले पहर की
    उजली धूप की तरह...

    ज़िंदगी की अच्छी फिलॉस्फी है, उम्‍मीद का दिया जलाए रखें।

एक टिप्पणी भेजें