अगरबत्तियों का धुआं...

कितना भला लगता है
अगरबत्तियों का
महकता सफ़ेद धुआं...

पुरानी यादों के
कितने अक्स
उभर आते हैं...

जुमेरात को बाद अस्र के
घर में महकने लगती थीं
गुलाब की अगरबत्तियां...

अक़ीदत के चिराग़ रौशन होते
हाथ दुआ के लिए उठ जाते
जाने कौन-सी दुआएं थीं वो
अब याद नहीं...

अब भी आंगन में
अगरबत्तियां महकती हैं
कभी गुलाब की, कभी केवड़ा
और कभी संदल की ख़ुशबू वाली...

लेकिन
अब चिराग़ रौशन नहीं होते
हाथ ज़रूर उठते हैं दुआओं के लिए
ये दुआएं, जो अपने लिए नहीं होतीं...
-फ़िरदौस ख़ान

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

आज फ़ादर्स डे है...


आज फ़ादर्स डे है... हमारे लिए हर पल ही फ़ादर्स डे है, क्योंकि हम अपने पापा के वजूद का ही एक हिस्सा हैं और पापा आज भी हम में ज़िन्दा हैं...
हमारे पापा ख़ुद से ज़्यादा अपने बच्चों को चाहते थे... पापा को घर आते देख हम उनके पास दौड़ जाते और पापा घर में दाख़िल होने से पहले ही हमें गोद में उठा लेते और चीज़ दिलाने ले जाते... सोते में एक लफ़्ज़ मुंह से निकलता-पानी, तो पापा हमें पानी पिलाते... हमें याद नहीं कि बचपन में कभी हमने ख़ुद उठकर पानी पिया हो... पापा हमें स्कूल लेकर जाते... फिर स्कूल से लेकर भी आते... जब तक पापा ज़िन्दा रहे, हम घर जाते तो उन्हें घर से बाहर ही बेचैन टहलते देखते... पापा कहते- फ़िरदौस आने वाली है... और वो हमारे इंतज़ार में घर के बाहर ही टहलते रहते... ये जानते हुए कि हमारे घर आने में अभी कई घंटे बाक़ी हैं... हमसे पहले कभी पापा ने खाना नहीं खाया... कभी हमारी आंखें नम नहीं होने दीं... ये है हमारे पापा की हमारे लिए मुहब्बत... पापा के जाने के बाद ही दुख-तकलीफ़ का अहसास हुआ... ज़िन्दगी में पापा की कमी सबसे ज़्यादा खलती है...
अल्लाह हमारे पापा की मग़फ़िरत करे और उन्हें जन्नतुल-फ़िरदौस में आला मुक़ाम अता करे, आमीन...
(ज़िन्दगी की किताब का एक वर्क़)

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS

दुनियावी रिश्ते


दुनियावी रिश्ते शर्तों पर ही हुआ करते हैं, ख़ासकर शादी का रिश्ता...
शौहर कमाकर लाता है, बीवी को घर, कपड़े, खाना और उसकी ज़रूरत की हर चीज़ उसे मुहैया कराता है... बीवी घर का कामकाज करती है, शौहर की ख़िदमत करती है... दोनों एक-दूसरे की ज़रूरतें पूरी करते हैं... शादी का रिश्ता ही एक-दूसरे की ज़रूरत पूरी करने का रिश्ता है... जहां एक ने भी दूसरे की ज़रूरत पूरी करने से इंकार किया, रिश्ता टूटने लगता है, बिखरने लगता है और अकसर रिश्ता ख़त्म ही हो जाता है... जो ख़त्म नहीं हो पाता, वो पल-पल सिसकता रहता है...

कोरे आदर्शवादी चाहें, तो इसे झुठला सकते हैं... मगर हक़ीक़त यही है...

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • Twitter
  • RSS